सुबह से शाम, और फिर जल्दी से रात हो जाये, काश, उनसे पहले की ही तहर , एक बार बात

[ad_1]

सुबह से शाम,
और फिर जल्दी से रात हो जाये,
काश, उनसे पहले की ही तहर ,
एक बार बात हो जाये।
#shayari
[ad_2]

Source by Ajay sandilya