You are currently viewing सांसे बढाने के लिये ऑक्सीजन खुद ढूंढो,
ये सब ना मिले तो श्मशान भी खुद ही ढूंढो..
-बढाने-के-लिये-ऑक्सीजन-खुद-ढूंढो-ये-सब-ना

सांसे बढाने के लिये ऑक्सीजन खुद ढूंढो, ये सब ना मिले तो श्मशान भी खुद ही ढूंढो..

सांसे बढाने के लिये ऑक्सीजन खुद ढूंढो,
ये सब ना मिले तो श्मशान भी खुद ही ढूंढो…

– जीतेन्द्र मीना (@Jitendragurdeh)
#shayari #PoetsTwitter
@kavishala @Kavishala_Hindi

https://t.co/es1wTccBtA
सांसे बढाने के लिये ऑक्सीजन खुद ढूंढो,
ये सब ना मिले तो श्मशान भी खुद ही ढूंढो..

सांसे बढाने के लिये ऑक्सीजन खुद ढूंढो,
ये सब ना मिले तो श्मशान भी खुद ही ढूंढो…

– जीतेन्द्र मीना (@Jitendragurdeh)
#shayari #PoetsTwitter
@kavishala @Kavishala_Hindi

https://t.co/es1wTccBtA
#सस #बढन #क #लय #ऑकसजन #खद #ढढय #सब #न #मल #त #शमशन #भ #खद #ह #ढढ

Twitter shayarish by Jitendra Meena

Leave a Reply