“सफर में तूफ़ानो से भला कैसा डरना   मुश्किलों से अब मोहब्बत जो हो गई है   यू, ऐ

[ad_1]

“सफर में तूफ़ानो से भला कैसा डरना 
 मुश्किलों से अब मोहब्बत जो हो गई है 

 यू, ऐसे ख़ामोश ना रहा कर ए-जिंदगी 
 हमे तेरे शोर की अब आदत जो हो गई है।”
-किशोर

#shayari #hindipoetry #urdupoetry
[ad_2]

Source by Kishor Gorde Official

Leave a Reply