वो जो खुदा को मानते है मुझे काफ़िर समझते हैं रोज़ा रखा है उसने और मुझे रोज़ बदुआ

[ad_1]

वो जो खुदा को मानते है मुझे काफ़िर समझते हैं
रोज़ा रखा है उसने और मुझे रोज़ बदुआ देते हैं
ये कैसी मोहब्बत है कि दीदार-ए-यार भी नही होता
मगर वो वादा तो मिलने का मुझसे रोज़ करते हैं

रंजीत सिंह
#shayari #Shayariquotes #thoughts
[ad_2]

Source by Ranjeet Singh (رنجیت سنگھ)

Leave a Reply