मैं हूं और मेरी तन्हाई है आंखों से बरसती रुसवाई है दीदार-ए-आलम बड़ा सुहाना हो ते

[ad_1]

मैं हूं और मेरी तन्हाई है
आंखों से बरसती रुसवाई है
दीदार-ए-आलम बड़ा सुहाना हो
तेरी याद फिर से आज आई है

रंजीत सिंह
#shayari #LifeStories #qoutes
[ad_2]

Source by Ranjeet Singh (رنجیت سنگھ)

Leave a Reply