बहुत खास थे कभी नजरों में किसी के हम भी, मगर नजरों के तकाज़े बदलने में देर कहाँ

[ad_1]

बहुत खास थे कभी
नजरों में किसी के हम भी,
मगर नजरों के तकाज़े
बदलने में देर कहाँ लगती है।
#shayari #shayri #Jaipur #TwitterSpaces #HindiShayari
[ad_2]

Source by Manisha Choudhary

Leave a Reply