You are currently viewing बहक न जाए कहीं कमबख्त इस चाय की नीयत
तुम बार-बार यूँ देर तक कुल्हड़ को होंठो से
-न-जाए-कहीं-कमबख्त-इस-चाय-की-नीयत-तुम

बहक न जाए कहीं कमबख्त इस चाय की नीयत तुम बार-बार यूँ देर तक कुल्हड़ को होंठो से

बहक न जाए कहीं कमबख्त इस चाय की नीयत
तुम बार-बार यूँ देर तक कुल्हड़ को होंठो से न लगाया करो !!
#tubebite #ShayariforbeautifulgirlinHindi #shayariforpraisingbeautyinhindi #TareefShayariforbeautifulgirlinHindi
more – https://t.co/6hQIqFR8HY https://t.co/mgtPsFulsM
बहक न जाए कहीं कमबख्त इस चाय की नीयत
तुम बार-बार यूँ देर तक कुल्हड़ को होंठो से

बहक न जाए कहीं कमबख्त इस चाय की नीयत
तुम बार-बार यूँ देर तक कुल्हड़ को होंठो से न लगाया करो !!
#tubebite #ShayariforbeautifulgirlinHindi #shayariforpraisingbeautyinhindi #TareefShayariforbeautifulgirlinHindi
more – https://t.co/6hQIqFR8HY https://t.co/mgtPsFulsM
#बहक #न #जए #कह #कमबखत #इस #चय #क #नयततम #बरबर #य #दर #तक #कलहड #क #हठ #स

Twitter shayarish by shubhangi

Leave a Reply