बड़ी ही अजीब है शहर की तन्हाई भी, हजारों की भीड़ में भी कोई अपना नहीं दिखता।

बड़ी ही अजीब है शहर की तन्हाई भी,
हजारों की भीड़ में भी कोई अपना नहीं दिखता।
https://t.co/LwrdWNukBk
बड़ी ही अजीब है शहर की तन्हाई भी,
हजारों की भीड़ में भी कोई अपना नहीं दिखता।

बड़ी ही अजीब है शहर की तन्हाई भी,
हजारों की भीड़ में भी कोई अपना नहीं दिखता।
https://t.co/LwrdWNukBk
#बड #ह #अजब #ह #शहर #क #तनहई #भहजर #क #भड #म #भ #कई #अपन #नह #दखत

Twitter shayarish by Hindi Hain Hum

Leave a Reply