निगाहो मे कोई भी दूसरा_चेहरा नही आया भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने

[ad_1]

निगाहो मे कोई भी दूसरा_चेहरा नही आया
भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का
#Arya
#shayari #poetry
[ad_2]

Source by Tere Bin Hum

Leave a Reply