नफ़रत रही फ़रेबी दुनिया से इसलिए, मेरी मैयत पे भी नक़ली आंसू मिलेंगे, सुनो सब ह

[ad_1]

नफ़रत रही फ़रेबी दुनिया से इसलिए,
मेरी मैयत पे भी नक़ली आंसू मिलेंगे,

सुनो सब हंसते हंसते मुझे दफ़्न करना,
फ़र्क़ नही पड़ेगा अगर रोने वाले भी हसेंगे।

#शायरी #बज़्म #शायरांश #हिंदी #उर्दू #HindiPoetry #UrduPoetry #shayari #poetry #poet #PoetryClubPPP #poetrycommunity #life
[ad_2]

Source by Anshuman

Leave a Reply