You are currently viewing जुल्मी भरे इस दुमिया में यहां कोई हमदर्द नही मिलता, सारे जखम दे जाते है यहां कोई
जुल्मी-भरे-इस-दुमिया-में-यहां-कोई-हमदर्द-नही-मिलता

जुल्मी भरे इस दुमिया में यहां कोई हमदर्द नही मिलता, सारे जखम दे जाते है यहां कोई

[ad_1]

जुल्मी भरे इस दुमिया में यहां कोई हमदर्द नही मिलता, सारे जखम दे जाते है यहां कोई हमें मरहम नही लगाता…

#RbBablu #RbRoop #RbPoetry #Poetry #PoetryLovers #MyPoetry #HindiPoetry #Shayari #MyShayari #LoveShayari #HindiShayari #Bewafai #HeartTouchingPoetry #HeartTouchingLines https://t.co/kf3vwu73Ht
[ad_2]

Source by RB BABLU