You are currently viewing #जिन्दगी संम्भालने  को पूरी जिन्दगी पड़ी है,

अभी वो #लम्हा संम्भाल लो जहाँ जिन्
जिन्दगी-संम्भालने-को-पूरी-जिन्दगी-पड़ी-है-अभी-वो-लम्हा

#जिन्दगी संम्भालने को पूरी जिन्दगी पड़ी है, अभी वो #लम्हा संम्भाल लो जहाँ जिन्

[ad_1]

#जिन्दगी संम्भालने को पूरी जिन्दगी पड़ी है,

अभी वो #लम्हा संम्भाल लो जहाँ जिन्दगी खड़ी है

#Anonymous #copied #shayari
#शायरी #शायराश॑ https://t.co/Z1g5ZsbFIv
[ad_2]

Source by Anjan_💯%

Leave a Reply