ज़बान कहने से रुक जाए वही दिल का है अफसाना.. न पूछो मय-कशों से क्यों छलक जाता ह

[ad_1]

ज़बान कहने से रुक जाए वही दिल का है अफसाना..

न पूछो मय-कशों से क्यों छलक जाता है पैमाना….।
🍷❤️✌️

#shayari
[ad_2]

Source by Sudhanshu Singh Chauhan