You are currently viewing जज़्बात ख़ामोशियों की हदें
तोड़ कर
आगे बढ़े

जिनके थे पर, वो बैठे रहे
जिनके न थे
-ख़ामोशियों-की-हदें-तोड़-कर-आगे-बढ़े-जिनके-थे

जज़्बात ख़ामोशियों की हदें तोड़ कर आगे बढ़े जिनके थे पर, वो बैठे रहे जिनके न थे

जज़्बात ख़ामोशियों की हदें
तोड़ कर
आगे बढ़े

जिनके थे पर, वो बैठे रहे
जिनके न थे
बस वो उड़े @pankajudhas #poetry #shayari #poetstwitter #hindi #lyrics https://t.co/c3ubiyGCFg
जज़्बात ख़ामोशियों की हदें
तोड़ कर
आगे बढ़े

जिनके थे पर, वो बैठे रहे
जिनके न थे

जज़्बात ख़ामोशियों की हदें
तोड़ कर
आगे बढ़े

जिनके थे पर, वो बैठे रहे
जिनके न थे
बस वो उड़े @pankajudhas #poetry #shayari #poetstwitter #hindi #lyrics https://t.co/c3ubiyGCFg
#जजबत #खमशय #क #हदतड #करआग #बढजनक #थ #पर #व #बठ #रहजनक #न #थ

Twitter shayarish by Prashant V Shrivastava (मुसाफ़िर)

Leave a Reply