क्या डर मुझे तेरे जाने का ज़ख्म झेल रहा दिल के लगाने का ।। क्या डर तेरे रूठ जान

[ad_1]

क्या डर मुझे तेरे जाने का
ज़ख्म झेल रहा दिल के लगाने का ।।
क्या डर तेरे रूठ जाने का
दर्द मालूम मुझे दिल टूट जाने का ।।
@eos_shayari
[ad_2]

Source by Evolution_of_shayari

Leave a Reply