क्या कहूँ उस से कि जो बात समझता ही नहीं वो तो मिलने को मुलाक़ात समझता ही नहीं

[ad_1]

क्या कहूँ उस से कि जो बात समझता ही नहीं
वो तो मिलने को मुलाक़ात समझता ही नहीं

– फातिमा हसन
#शायरी #shayari #poetrycommunity #poetry #poem
[ad_2]

Source by Being human

Leave a Reply