कलम से पहले हर शख्स की शख्सियत को पहचानो, वफादार यारों की सही कीमत को पहचानो।

[ad_1]

कलम से ✍️
पहले हर शख्स की शख्सियत को पहचानो,
वफादार यारों की सही कीमत को पहचानो।

मैं ये नहीं कहता कि इश्क़-ए-ऐतबार मत करो,
गुफ्तगू से पहले वक्त की नीयत को पहचानो।।
@DrKumarVishwas @Rekhta @Javedakhtarjadu #shayari #urdualfaz #ShayadFirSe #urdupoetry #hindipoetry #HindiShayari
[ad_2]

Source by शाश्वत राय ‘ विभोर ‘