उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी, मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्

उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी,
मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्दी थी,
मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,
यहाँ हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी।
Amit Singh Baghel
#sad #shayari #poet #poetry #amitsinghbaghel #gulzar #rahatindori #poem #Shayar_Gazal
उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी,
मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्

उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी,
मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्दी थी,
मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,
यहाँ हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी।
Amit Singh Baghel
#sad #shayari #poet #poetry #amitsinghbaghel #gulzar #rahatindori #poem #Shayar_Gazal
#उस #अब #क #वफओ #स #गजर #जन #क #जलद #थमगर #इस #बर #मझ #क #अपन #घर #जन #क #जल

Twitter shayarish by 🇦‌🇲‌🇮‌🇹‌🇸‌🇮‌🇳‌🇬‌🇭‌_🇧‌🇦‌🇬‌🇭‌🇪‌🇱‌

Leave a Reply