You are currently viewing इक शहंशाह ने दौलत का सहारा ले कर,
हम ग़रीबों की मोहब्बत का उड़ाया है मज़ाक़।
#Sh
-शहंशाह-ने-दौलत-का-सहारा-ले-कर-हम-ग़रीबों

इक शहंशाह ने दौलत का सहारा ले कर, हम ग़रीबों की मोहब्बत का उड़ाया है मज़ाक़। #Sh

[ad_1]

इक शहंशाह ने दौलत का सहारा ले कर,
हम ग़रीबों की मोहब्बत का उड़ाया है मज़ाक़।
#Shayari
#photography
#love
#Agra https://t.co/MmT4gVHbRy
[ad_2]

Source by Qalandar

Leave a Reply