Read more about the article आवा‌‌ज़ दे मुझको मोहब्बत से | Munawwar Rana Ki Shayari | Jashn-e-Rekhta
-दे-मुझको-मोहब्बत-से-Munawwar-Rana-Ki-Shayari

आवा‌‌ज़ दे मुझको मोहब्बत से | Munawwar Rana Ki Shayari | Jashn-e-Rekhta

मैं दुश्मन ही सही आवाज़ दे मुझको मोहब्बत से सलीक़े…

Continue Readingआवा‌‌ज़ दे मुझको मोहब्बत से | Munawwar Rana Ki Shayari | Jashn-e-Rekhta