खुशियाँ कम हैं-प्रदीप सिंह-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Pradeep Singh

खुशियाँ कम हैं-प्रदीप सिंह-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Pradeep Singh   खुशियाँ कम हैं गम ज्यादा हैं खुशियों को सुलगाना होगा दर्द का हिमखंड पिघलाना होगा गीत कोई तो गाना होगा आवाज़ भले भर्राई हो आँख डबडबा आई हो यादों को महकाना होगा सन्नाटे को गुंजाना होगा गीत कोई तो… सरगम के …

Read more