You are currently viewing Chand Shayari in Hindi by Gulzar
Chand-Shayari-in-Hindi-by-Gulzar

Chand Shayari in Hindi by Gulzar

Chand Shayari in Hindi by Gulzar | shayari & Nazm from Gulzar Sahab – One of the greatest Shayars and nazm Lover

बीच आस्मां में था
बात करते- करते ही
चांद इस तरह बुझा
जैसे फूंक से दिया
देखो तुम…
इतनी लम्बी सांस मत लिया करो

गुलज़ार शहाब की इन शायरियों को  यहाँ  सुने, और अपने दिल को राहत पाए

कैसी ये मोहर लगा दी तूने…
शीशे के पार से चिपका तेरा चेहरा
मैंने चूमा तो मेरे चेहरे पे छाप उतर आयी है उसकी,
जैसे कि मोहर लगा दी तूने…
तेरा चेहरा ही लिये घूमता हूँ, शहर में तबसे
लोग मेरा नहीं, एहवाल तेरा पूछते हैं, मुझ से !!

Read here the best collection of Chand Shayari, Shayari On Chand, Chand Shayari In Hindi, Chand Par Shayari & more… Share these Chand Shayari In Hindi & Images with your near & dear ones! #chandshayari #shayari #shayaris

 

गुलज़ार की नज़्में…
थोड़ी देर ज़रा-सा और वहीं रुकतीं तो…
सूरज झांक के देख रहा था खिड़की से
एक किरण झुमके पर आकर बैठी थी,
और रुख़सार को चूमने वाली थी कि
तुम मुंह मोड़कर चल दीं और बेचारी किरण
फ़र्श पर गिरके चूर हुईं
थोड़ी देर, ज़रा सा और वहीं रूकतीं तो…

Gulzar Sahab Nazm

Read More shayari & Nazm from Gulzar Sahab – One of the greatest Shayars and nazm Lover

More Shayari on  StunQuotes.com

Source by stunquoteshub

This Post Has One Comment

Leave a Reply