Love shayri

याद वो आया है बरसात में बादल की तरह,
बात करने में चहकता था जो कोयल की तरह।

Rekhta Pataulvi

Leave a Reply