खुशी कभी मिलती भी है तो ग़म की तरह

नसीब अपना है रूठे हुए सनम की तरह
अगर खुशी कभी मिलती भी है तो ग़म की तरह
Rekhta Pataulvi

Leave a Reply