You are currently viewing Silence
Silence

Silence

[ad_1]

चुप्पियाँ बढ़ती जा रही हैं उन सारी जगहों पर जहाँ बोलना ज़रूरी था ~ केदारनाथ सिंह

[ad_2]

Source by skjasc

Leave a Reply