You are currently viewing हाथ की लकीरें सिर्फ सजावट बयाँ करती है
-की-लकीरें-सिर्फ-सजावट-बयाँ-करती-है

हाथ की लकीरें सिर्फ सजावट बयाँ करती है

[ad_1]

किसी पर मर जाने से शुरू होती है मुहब्बत, इश्क जिन्दा लोगों का काम नहीं !!

हाथ की लकीरें सिर्फ सजावट बयाँ करती है
किसी पर मर जाने से शुरू होती है मुहब्बत, इश्क जिन्दा लोगों का काम नहीं !!

More pinterest shayari by tabiqbal99