You are currently viewing शब-ए- फुरकत में कहाँ तक रोए हम
-ए-फुरकत-में-कहाँ-तक-रोए-हम

शब-ए- फुरकत में कहाँ तक रोए हम

[ad_1]

poetrylandmark : जुदाई

शब-ए- फुरकत में कहाँ तक रोए हम
poetrylandmark : जुदाई

More pinterest shayari by sgurinder08

Leave a Reply