ये गज़ले ,,,ये शायरी,,,ये नज़्म,,,य…

[ad_1]

ये गज़ले ,,,ये शायरी,,,ये नज़्म,,,ये बेवजाह के खयाल.. * ना जाने मोहब्बत किस जुर्म की सज़ा दे रही मुझे..!! 🍁 🍁 🍁

ये गज़ले ,,,ये शायरी,,,ये नज़्म,,,य…
ये गज़ले ,,,ये शायरी,,,ये नज़्म,,,ये बेवजाह के खयाल.. * ना जाने मोहब्बत किस जुर्म की सज़ा दे रही मुझे..!! 🍁 🍁 🍁

More pinterest shayari by arunarora599

Leave a Reply