You are currently viewing नफ़रत भी क्यूं करे उससे, उतना भी क्यूं रखे वास्ता!
-भी-क्यूं-करे-उससे-उतना-भी-क्यूं-रखे-वास्ता

नफ़रत भी क्यूं करे उससे, उतना भी क्यूं रखे वास्ता!

[ad_1]

इश्क़-मोहब्बत

नफ़रत भी क्यूं करे उससे, उतना भी क्यूं रखे वास्ता!
इश्क़-मोहब्बत

More pinterest shayari by ashoktoxa

Leave a Reply