You are currently viewing चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना …
चुपचाप-गुज़ार-देगें-तेरे-बिना

चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना …

[ad_1]

चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना भी ये ज़िन्दगी, लोगो को सिखा देगें मोहब्बत ऐसे भी होती है।

चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना …
चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना भी ये ज़िन्दगी, लोगो को सिखा देगें मोहब्बत ऐसे भी होती है।

More pinterest shayari by kamaljitkaur87

Leave a Reply