किसको उम्मीद थी जब रौशनी जवां होगी -अदम गोंडवी

किसको उम्मीद थी जब रौशनी जवां होगी

किसको उम्मीद थी जब रौशनी जवां होगी
कल के बदनाम अंधेरों पे मेहरबां होगी

खिले हैं फूल कटी छातियों की धरती पर
फिर मेरे गीत में मासूमियत कहाँ होगी

आप आयें तो कभी गाँव की चौपालों में
मैं रहूँ या न रहूँ भूख मेज़बां होगी

This Post Has 2 Comments

Comments are closed.