कब तक सहेंगे ज़ुल्म रफ़ीक़ो-रक़ीब के- धरती की सतह पर अदम गोंडवी

कब तक सहेंगे ज़ुल्म रफ़ीक़ो-रक़ीब के ।
शोलों में अब ढलेंगे ये आँसू ग़रीब के ।

इक हम हैं भुखमरी के जहन्नुम में जल रहे,
इक आप हैं दुहरा रहे क़िस्से नसीब के ।

उतरी है जबसे गाँव में फ़ाक़ाकशी की शाम,
बेमानी होके रह गए रिश्ते क़रीब के ।

इक हाथ में क़लम है और इक हाथ में क़ुदाल,
बावस्ता हैं ज़मीन से सपने अदीब के ।

(रफ़ीक़ो-रक़ीब=दोस्त-दुश्मन)

धरती की सतह पर अदम गोंडवी | Dharti Ki Satah Par Adam Gondvi

This Post Has One Comment

Leave a Reply