You are currently viewing ☪ सूफी संगीत 🕌 Videos ravindradasvns@gmail.com – ShareChat – भारत का अपना भारतीय सोशल नेटवर्क
-संगीत-Videos-ravindradasvns@gmailcom-ShareChat-भारत-का-अपना

☪ सूफी संगीत 🕌 Videos ravindradasvns@gmail.com – ShareChat – भारत का अपना भारतीय सोशल नेटवर्क

*कबीर साहेब के लिए फैली भ्रांतियों का विवरण।*

वह पूर्ण परमात्मा कबीर परमेश्वर चारों युगों में आते हैं और अपना ज्ञान मानव समाज को देकर सशरीर सतलोक चले जाते हैं। उन्होंने सामाज में फैली कुरीतियों, कर्मकांड, अंधविश्वास की निंदा की और सामाजिक बुराइयों का खंडन किया है। कबीर परमेश्वर जी ने अपनी वाणी में कहा है कि:-

सतयुग में सत सुकृत कह टेरा, त्रेता नाम मुनींद्र मेरा।
द्वापर में करुणामय कहाया, कलयुग नाम कबीर धराया।।

सतगुरु पुरुष कबीर है, चारों युग प्रमाण ।।
झूठे गुरुवा मर गए, होगे भूत मसान।।

विक्रमी  संवत् 1455 ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन सत्य पुरुष पूर्ण परमेश्वर कबीर साहिब जी सतलोक से चलकर एक लहर तारा नामक तालाब में कमल के फूल पर सशरीर आकर प्रकट हुए थे।

ऋग्वेद मंडल 9 सूक्त 96 मंत्र 17 में कहा है कि वेद बोलने वाला ब्रह्म कह रहा है कि विलक्षण मनुष्य के बच्चे के रूप में प्रकट होकर पूर्ण परमात्मा कबीर देव अपने वास्तविक ज्ञान को अपनी कविगिरभिः अर्थात कबीर वाणी द्वारा निर्मल ज्ञान अपनी हंस आत्माओं को कवि रूप में कविता और लोकोक्तियों के द्वारा उच्चारण करके वर्णन करते हैं वह स्वयं सत्पुरुष कबीर ही होता है।

आज मानव समाज में बहुत भ्रांतिया भी मौजूद हैं।
संत कबीर साहेब का जन्म ज्येष्ठ मास की शुक्ल पूर्णमासी विक्रमी संवत 1455(सन 1398) को लहर तारा तालाब काशी में एक कमल के फूल पर अपने निज स्थान सतलोक से आये थे तथा नीरु ओर नीमा नाम के जुलाहे को मिले थे ।

गरीब, काशीपुरी कस्त किया, उतरे अधर उधार ।
मोमन कूं मुजरा हुवा, जंगल मे दीदार ।।
गरीब, अनंत कोटि ब्रह्मांड में, बंदी छोड़ कहाय ।
सो तो एक कबीर है, जननी जन्या न माय ।।

 “गगन मंडल से उतरे सतगुरु पुरूष कबीर”

 जलज माहि पौडन किए, सब पीरन के‌ पीर।

कबीर परमेश्वर जी का जन्म मां के पेट से नहीं हुआ था उनके मुंह बोले माता-पिता नीरू नीमा थे और उन्होंने अपने वचन शक्ति से दो मृतकों को जीवित किया था और उनकी सन्तान रूप में परवरिश की लीला की थी।

वह पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब जी है जो हर युग में आकर अनेकों अद्भुत लीला करके सशरीर  सतलोक चले जाते हैं। वह अविनाशी परमात्मा है उनका उद्देश्य मानव समाज में फैल रही पाखंडवाद का खंडन करना है और सभी को सतज्ञान से परिचित करवा कर अमर स्थान पर ले जाने का है।

#MythsAbout_GodKabir
#KabirPrakatDiwas 24 June

आप सभी से विनम्र निवेदन है जगतगुरु संत रामपाल जी महाराज जी से नि:शुल्क नाम दीक्षा लें और अपना जीवन सफल बनाएं।
👇🏻👇🏻
https://online.jagatgururampalji.org/naam-diksha-inquiry #☪ सूफी संगीत 🕌 #🙏🏻माँ दुर्गा भजन #🙏🏻श्री साईं भजन #🙏🏻शनिदेव भजन #🙏🏻 गणपति भजन 🌺

☪ सूफी संगीत 🕌 Videos ravindradasvns@gmail.com – ShareChat – भारत का अपना भारतीय सोशल नेटवर्क
#सफ #सगत #Videos #ravindradasvnsgmailcom #ShareChat #भरत #क #अपन #भरतय #सशल #नटवरक

More on Sharechat

Leave a Reply