मेरे बस में तो बस उनकी आराधना बाकी बातें पवनसुत को है सोचना

मेरे बस में तो बस उनकी आराधना
बाकी बातें पवनसुत को है सोचना
मेरे बस में…

जिसको हनुमानजी का सहारा मिला
मन मुताबिक उसे हर नज़ारा मिला
ज्ञात है उनको मेरी मनोकामना
बाकी बातें पवनसुत को है सोचना

जग में हनुमत का गुणगान यूँ ही नहीं
राम मन्दिर में हनुमान यूँ ही नहीं
दिल से हनुमान जी की करें साधना
बाकी बातें पवनसुत को है सोचना

भोले शंकर के हनुमान अवतार हैं
राम की भक्ति के वे ही कर्णधार हैं
उनकी आराधना ही है ‘हरि’ वन्दना
बाकी बातें पवनसुत को है सोचना

लेखक:- डा० हरि ्रकाश श्रीवास्तव ‘फ़ैज़ाबादी’

 

mere bas me to bas unki aradhna

mere bas me to bas unaki aaraadhanaa
baaki baaten pavanasut ko hai sochanaa
mere bas me…

jisako hanumanji ka sahaara milaa
man mutaabik use har nazaara milaa
gyaat hai unako meri manokaamanaa
baaki baaten pavanasut ko hai sochanaa

jag me hanumat ka gunagaan yoon hi nahi
ram mandir me hanuman yoon hi nahi
dil se hanuman ji ki karen saadhanaa
baaki baaten pavanasut ko hai sochanaa

bhole shankar ke hanuman avataar hain
ram ki bhakti ke ve hi karndhaar hain
unaki aaraadhana hi hai hari vandanaa
baaki baaten pavanasut ko hai sochanaa

mere bas me to bas unaki aaraadhanaa
baaki baaten pavanasut ko hai sochanaa
mere bas me…

Leave a Comment