दीवानी बन जाउंगी, मस्तानी बन जाउंगी  मैं तो अपने श्याम की दीवानी बन जाउंगी

दीवानी बन जाउंगी, मस्तानी बन जाउंगी
मैं तो अपने श्याम की दीवानी बन जाउंगी

जब मेरे श्याम जी को भूख लगेगी
माखन की मटकी और मिश्री बन जाउंगी

जब मेरे श्याम जी को ्यास लगेगी
मीठी मीठी दहिया की लस्सी बन जाउंगी

जब मेरे श्याम जी को नींद आएगी
रेशम की चारद और तकिया बन जाउंगी

‘चित्र विचित्र’ ने छोर मचाया

main to apne shyam ki deewani ban jaungi diwani ban jaungi mastani ban jaungi

deevaani ban jaaungi, mastaani ban jaaungee
mainto apane shyaam ki deevaani ban jaaungee

jab mere shyaam ji ko bhookh lagegee
maakhan ki mataki aur mishri ban jaaungee

jab mere shyaam ji ko pyaas lagegee
meethi meethi dahiya ki lassi ban jaaungee

jab mere shyaam ji ko neend aaegee
resham ki chaarad aur takiya ban jaaungee

‘chitr vichitr’ ne chhor mchaayaa
man mohan ke man ki raani ban jaaungee

deevaani ban jaaungi, mastaani ban jaaungee
mainto apane shyaam ki deevaani ban jaaungee

Leave a Comment