You are currently viewing Tarpan 34 तर्पण ३४  | Saaye Mein Dhoop | Dushyant Kumar I Dr Kumar Vishwas
Tarpan--तर्पण-३४-Saaye-Mein-Dhoop-Dushyant

Tarpan 34 तर्पण ३४ | Saaye Mein Dhoop | Dushyant Kumar I Dr Kumar Vishwas



हर वर्तमान की धूप में साया ढूँढते शायर को जब साये में भी धूप ही मिलती है तो पसीने की पोरों से ये शब्द निकलते हैं –
A poet who is looking for some escape from the scorching sunlight but fails to find it, pens down –

कहाँ तो तय था चराग़ाँ हर एक घर के लिये
कहाँ चराग़ मयस्सर नहीं शहर के लिये

यहाँ दरख्तों के साये में धूप लगती है
चलो यहाँ से चले और उम्र भर के लिये

वो मुतमइन हैं कि पत्थर पिघल नहीं सकता
मैं बेक़रार हूँ आवाज़ में असर के लिये

न हो क़मीज़ तो घुटनों से पेट ढक लेंगे
ये लोग कितने मुनासिब हैं इस सफ़र के लिये

ख़ुदा नहीं न सही आदमी का ख़्वाब सही
कोई हसीन नज़ारा तो है नज़र के लिये

तेरा निज़ाम है सिल दे ज़बान शायर की
ये एहतियात ज़रूरी है इस बहर के लिए

जियें तो अपने बग़ीचे में गुलमोहर के तले
मरें तो ग़ैर की गलियों में गुलमोहर के लिये

Kahaan To Tay Tha Charaaga Har Ek Ghar Ke Liye
Kahaan Charaag Mayassar Nahi Shahar Ke Liye

Yahaan Darakhton Ke Saaye Mein Dhoop Lagati Hai
Chalo Yahaan Se Chale Aur Umr Bhar Ke Liye

Vo Mutmayin Hain Ki Patthar Pighal Nahi Sakta
Main Bekraar Hoon Aavaaj Mein Asar Ke Liye

Na Ho Kamij To Ghutno Se Pet Dhak Lenge
Ye Log Kitne Munaasib Hain Is Safar Ke Liye

Khuda Nahi Na Sahi Aadmi Ka Khvaab Sahi
Koi Hasin Najaara To Hai Najar Ke Liye

Tera Nijaam Hai Sil De Jubaan Shaayar Ki
Ye Ehatiyaat Jaroori Hai Is Behar Ke Liye

Jiyen To Apne Bagiche Mein Gulmohar Ke Tale
Marein To Gair Ki Galiyon Mein Gulmohar Ke Liye

Lyrics : Dushyant Kumar
Vocals and Composition : Dr Kumar Vishwas
Music Arrangement : Band Poetica
All Rights : KV Studio

Follow us on :-
YouTube :- http://youtube.com/KumarVishwas
Facebook :- https://www.facebook.com/KumarVishwas
Twitter :- https://twitter.com/DrKumarVishwas
Tarpan 34 तर्पण ३४ | Saaye Mein Dhoop | Dushyant Kumar I Dr Kumar Vishwas
#Tarpan #तरपण #३४ #Saaye #Mein #Dhoop #Dushyant #Kumar #Kumar #Vishwas

Youtube shayari

Leave a Reply