You are currently viewing Best Hindi Shayari | Corona Virus शायरी | Bewfai Shayari, Love Shayri, Sidhant Motivational Shayari
Best-Hindi-Shayari-Corona-Virus-शायरी-Bewfai-Shayari

Best Hindi Shayari | Corona Virus शायरी | Bewfai Shayari, Love Shayri, Sidhant Motivational Shayari



Best Shayari in Hindi | Best Shayari on Corona Virus | Bewfai Shayri | Gulzaar Shayari by Siddhant

1. buddha quotes in english:-

2. buddha quotes in hindi:-

3. Hand Picked Shayari in Hindi:-

4. Death and Isolation Shayari:-

5. Labour Day Poetry:-

best shayari video:- https://youtu.be/MTjU5DQ9QG8

मौत सब से बड़ी सच्चाई है। और ज़िंदगी की सबसे तल्ख़ हक़ीक़त भी। इस के बारे मे इंसानी ज़हन हमेशा से सोचता रहा है, सवाल करता रहा है और इन सवालों के जवाब ढूँढता रहा है; लेकिन यह एक ऐसी पहेली है जो न समझ में आती है और न ही कभी हल हो पाती है। मौत को शायरी में बरतने की कोशिशें बड़ी पुरकैफ और बेहद खूबसूरत हैं। यहाँ ज़िंदगी बेवफा है और मौत महबूबा। हमारे आज के इस इंतिख़ाब में हम आपको रू ब रु कराते है चंद ऐसे ही खुबसूरत अशार से; लेकिन उससे पहले पेश ए खिदमत है मौत से पहले की तनहाई और खामुषि मियां ग़ालिब की जुबानी।

रहिए अब ऐसी जगह चल कर जहाँ कोई न हो
हम-सुख़न कोई न हो और हम-ज़बाँ कोई न हो
To go and live in such a place where no one else should be
No one there to share one’s thoughts no soul for company

बे-दर-ओ-दीवार सा इक घर बनाया चाहिए
कोई हम-साया न हो और पासबाँ कोई न हो
One should build an open house, no walls nor doors to see
No neighbours to surround nor guards for security

Thanks For Watching
#SHAYARI
Best Hindi Shayari | Corona Virus शायरी | Bewfai Shayari, Love Shayri, Sidhant Motivational Shayari
#Hindi #Shayari #Corona #Virus #शयर #Bewfai #Shayari #Love #Shayri #Sidhant #Motivational #Shayari
Best Shayari in Hindi | Best Shayari on Corona Virus | Bewfai Shayri | Gulzaar Shayari by Siddhant

1. buddha quotes in english:-

2. buddha quotes in hindi:-

3. Hand Picked Shayari in Hindi:-

4. Death and Isolation Shayari:-

5. Labour Day Poetry:-

best shayari video:- https://youtu.be/MTjU5DQ9QG8

मौत सब से बड़ी सच्चाई है। और ज़िंदगी की सबसे तल्ख़ हक़ीक़त भी। इस के बारे मे इंसानी ज़हन हमेशा से सोचता रहा है, सवाल करता रहा है और इन सवालों के जवाब ढूँढता रहा है; लेकिन यह एक ऐसी पहेली है जो न समझ में आती है और न ही कभी हल हो पाती है। मौत को शायरी में बरतने की कोशिशें बड़ी पुरकैफ और बेहद खूबसूरत हैं। यहाँ ज़िंदगी बेवफा है और मौत महबूबा। हमारे आज के इस इंतिख़ाब में हम आपको रू ब रु कराते है चंद ऐसे ही खुबसूरत अशार से; लेकिन उससे पहले पेश ए खिदमत है मौत से पहले की तनहाई और खामुषि मियां ग़ालिब की जुबानी।

रहिए अब ऐसी जगह चल कर जहाँ कोई न हो
हम-सुख़न कोई न हो और हम-ज़बाँ कोई न हो
To go and live in such a place where no one else should be
No one there to share one’s thoughts no soul for company

बे-दर-ओ-दीवार सा इक घर बनाया चाहिए
कोई हम-साया न हो और पासबाँ कोई न हो
One should build an open house, no walls nor doors to see
No neighbours to surround nor guards for security

Thanks For Watching
#SHAYARI

Youtube

Leave a Reply