two lines shayari on khuda

two lines shayari on khuda

क्यूँ मिरी शक्ल पहन लेता है छुपने के लिए
एक चेहरा कोई अपना भी ख़ुदा का होता
~Gulzar ~Jashne