shayari on khuda ki rehmat shayari

‏shayari on khuda ki rehmat shayari

बड़ा मज़ा हो जो महशर में हम करें शिकवा
वो मिन्नतों से कहें चुप रहो ख़ुदा के लिए
~दाग़