khuda shayari by ghalib

khuda shayari by ghalib

है कहाँ तमन्ना का दूसरा क़दम या रब
हम ने दश्त-ए-इम्काँ को एक नक़्श-ए-पा पाया
~Mirza Ghalib