khuda salamat rakhe shayari

khuda salamat rakhe shayari

उम्र भर कौन निभाता है तअल्लुक़ इतना
ऐ मिरी जान के दुश्मन तुझे अल्लाह रक्खे
~अहमद_फ़राज़