khuda ki shayari urdu

khuda ki shayari urdu

कुछ खटकता तो है पहलू में मिरे रह रह कर
अब ख़ुदा जाने तिरी याद है या दिल मेरा
~Jigar