khuda khush rakhe shayari

khuda khush rakhe shayari

ख़ुदा करे कि तिरी उम्र में गिने जाएँ
वो दिन जो हमने तिरे हिज्र में गुज़ारे थे
~Ahmad nadeem qasmi

Leave a Reply