khuda ka ghar shayari

khuda ka ghar shayari

मेरे ख़ुदा मुझे इतना तो मो’तबर कर दे
मैं जिस मकान में रहता हूँ उसको घर कर दे
Iftikhar Arif