khuda aur mohabbat urdu shayari

khuda aur mohabbat urdu shayari

आँखें ख़ुदा ने दी हैं तो देखेंगे हुस्न-ए-यार
कब तक नक़ाब रुख़ से उठाई न जाएगी
~जलील_मानिकपुरी