khuda aur banda shayari

khuda aur banda shayari

कश्ती का ज़िम्मेदार फ़क़त ना-ख़ुदा नहीं
कश्ती में बैठने का सलीक़ा भी चाहिए