सुना ये है कि पढ़ाई में मन नही लगता तुम्हारा, मशवरा ये है कि मेरी शायरी पढ़ा करो…

[ad_1]

सुना ये है कि पढ़ाई में मन नही लगता तुम्हारा,
मशवरा ये है कि मेरी शायरी पढ़ा करो।।
[ad_2]

Source by Dev Bhatia देव भाटिया

Leave a Reply