साँस रोक कर तुझे छूने की कवायद, और हल्का सा छू कर ख़ुशी खुशी लौट आना, जैसे सारा …

[ad_1]

साँस रोक कर तुझे छूने की कवायद,
और हल्का सा छू कर ख़ुशी खुशी लौट आना,
जैसे सारा जहाँ जीत लिया
.
..
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.

.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
रोमांटिक शायरी नही है, कब्बडी की परिभाषा है।
फिर से पढ़े
[ad_2]

Source by Chandrashekhar Tripathi

Leave a Reply