साँसें माँग रहें हैं जैसे माँग रहे हो दावं, ये सब पीठ पीछे ऐसे ही कर जाएं घाऊ, ज…

[ad_1]

साँसें माँग रहें हैं जैसे माँग रहे हो दावं,
ये सब पीठ पीछे ऐसे ही कर जाएं घाऊ,
जोगीरा सरा.. रा….रा……र।
~विपुल तिवारी
#vipultiwaripoem
#हिंदी_शब्द #शायरांश
#शायरी #बज़्म
[ad_2]

Source by विकास तिवारी

Leave a Reply