सहज नहीं था ‘दीप’, कुचा ए यार से गुज़रना। जिससे की थी मुहब्बत, उसी से अदावत करना…

सहज नहीं था ‘दीप’, कुचा ए यार से गुज़रना।
जिससे की थी मुहब्बत, उसी से अदावत करना ॥
#दीप ✍️

#बज़्म
#शायरी #हिन्दी_शब्द
#शब्दनिधि #सहज

@Hindinama2
@Rekhta
@kavishala
सहज नहीं था ‘दीप’, कुचा ए यार से गुज़रना।
जिससे की थी मुहब्बत, उसी से अदावत करना…

सहज नहीं था ‘दीप’, कुचा ए यार से गुज़रना।
जिससे की थी मुहब्बत, उसी से अदावत करना ॥
#दीप ✍️

#बज़्म
#शायरी #हिन्दी_शब्द
#शब्दनिधि #सहज

@Hindinama2
@Rekhta
@kavishala
#सहज #नह #थ #दप #कच #ए #यर #स #गजरनजसस #क #थ #महबबत #उस #स #अदवत #करन

Twitter shayarish by 🚩अनिल त्रिपाठी #दीप ✍️ 🇮🇳 सनातनी 🚩

Leave a Reply